जो राह मोक्ष द्धार तक ले जाएगी|Best poetry in Hindi for love and peace

सफर की करो अब शुरुआत कब से लिए मै मन में आस चलो उड़ जाए हम बन के प्रकाश

कभी मै उस जीवन को जीता था

जो सब लोग जीते हैं

मै भी बस जी रहा था

लेकिन असली खुशियों की

जो राह मोक्ष द्धार तक ले जाएगी

तलाश नहीं थी फिर

एक दिन सब बदल गया और

मेरे जीवन को देखने का

ढंग भी बदल गया फिर

मै उस दिशा में नहीं भागा

जिस दिशा में सारे लोग

अंधाधुंध आंख पर पट्टी

बाँध कर भाग रहे थे

जहाँ मेरे आंखों पर पट्टी नहीं बंधी थी

मैने उस दिशा के ठीक

विपरीत दिशा का चुनाव किया

जहाँ मेरे आंखों पर पट्टी नहीं बंधी थी

मै सब कुछ ठीक से देख रहा था और

मै उस रास्ते पर इत्मिनान से

धीरे धीरे बढ़ रहा था

जब रास्ता समाप्त हुआ तो

मैने पीछे मुड़कर देखा

तो सब कुछ शांत बिल्कुल

शांत एक अलग ही

आनंद की अनुभूति दे रहा था मुझे

फिर मै उस विपरीत रास्ते को देखा

जिसे मैने चुनने से इंकार कर दिया था

जहाँ लोग अब और भी अधिक परेशान

आंखों पर पट्टी बाँधे अब

पागलो की तरह भाग रहे थे

वो पहले से ज्यादा बेचैन

और व्यथित दिख रहे थे

मैने फिर उधर उस दिशा से

अपनी नजर हठा ली और

खुद के इस रास्ते के चयन के लिए

खुद को ही धन्यवाद कहा

मेरे रास्ते के अंतिम सीमा पर एक द्धार था

जिसपर लिखा था मोक्ष द्धार

मै खुश था क्योंकि मैं उस द्धार के

भीतर प्रवेश कर रहा था

जिस द्धार तक पहुँचना सबके लिए

आसान है लेकिन कोई

इस द्धार तक नहीं पहुंच पाता है

क्योंकि वो इस द्धार तक

पहुँचना ही नहीं चाहते

बस यही हकीकत है

जो उस द्धार तक पहुंचना चाहता है

वो पहुंच ही जाता है

कितना आसान है

पट्टी को जो आंखों पर बंधी है उसे हमेशा के लिए उतार कर फेक दे

उस द्धार तक पहुँचना

पर इसे मुश्किल बना दिया है लोगों ने

इस द्धार तक पहुँचने के लिए

आपको विपरीत दिशा में चलना ही पड़ेगा

खुद से बाहर आकर अपने

आंखों पर बंधी पट्टी को उतारकर

हमेशा के लिए फेकना होगा और

अपने उचित मार्ग पर

कदम बढ़ाना होगा

जो पट्टी आंखों पर बंधी है

वो आपको अभी नहीं तो

आज कल में मुंह के बल

नीचे गिराएगी ही

फिर चोट बहुत ज्यादा आएगी

अब समय आ गया है

उस पट्टी को जो आंखों पर बंधी है

उसे हमेशा के लिए उतार कर फेक दे और

मार्ग तुरंत बदल ले जहाँ आपकी यात्रा

अत्यंत आनंदमय होने वाली होगी

जो राह मोक्ष द्धार तक ले जाएगी

Leave a Reply

Your email address will not be published.