Best hindi shayari|best love quotes|best hindi love kavita|heart touching poetry love

चांद की रौशनी में मैने तुम्हे देखा था

छत के एक कोने में खड़ी अपनी खामोशी से बात कर रही थी

शायद चांदनी रात में खुद से ही मुलाकात कर रही थी

चांद की रौशनी में तुम्हे देखा था एक कोने में खड़ी अपनी खामोशी से बात कर रही थी

मै अब किसे देखूँ इसी सोच में मै पड़ गया है

आसमान के उस चमकते चाँद को या जो चाँद

धरती पर उतर आया है उसे देखूँ

आसमान के चाँद पर सूरज का हक है

लेकिन जो चाँद धरती का है जो मेरे सामने है

उस चाँद पर तो सिर्फ मेरा हक है

अब मेरी एक ही ख्वाहिश है आगे बढकर

कुछ कदमों का फासला तय करके अब

हर वो दूरी जो मेरे और धरती के चाँद के बीच है

उसे अब सदा के लिए मिटा दूँ

धरती के चाँद को अपने गले लगाकर उसे सदा के लिए

अपना बनाकर इस युगो और कल्पो की दूरी को

सदा सदा के लिए खत्म कर दूं हमेशा हमेशा के लिए

फिर धरती का चाँद मुझे कभी अकेले तन्हा ना दिखाई दे

दोनों सदा के लिए एक हो कर प्रकाश बनकर फैल जाएं

जब भी दिखे तो मेरे साथ अपनी शीतला कि सबसे गहरी

और अद्धभूत मुस्कान के साथ जिसकी शांत चित से मै

हर कर्म के बंधन से सदा सदा के लिए मुक्त हो जाऊँ फिर

हम दोनों सदा के लिए एक हो कर प्रकाश बनकर फैल जाएं

Leave a Reply

Your email address will not be published.