जीवन को बेहतर कैसे बनाएं|how to improve yourself

अपने मजबूत इरादों और अपने प्रयासों पर मुझे यकीन हो चला है

जो लोग कहते हैं की ये तुम से नहीं होगा तो समझ लेना ये तुम से ही होगा जो सब कर रहे हैं अगर तुम वही करोगो तो शायद तुम कभी सफल नहीं हो पाओ लेकिन जो तुम दिल से कर सकते हैं लोगों को ना खुश करने के लिए ना ही जो सब कर रहे हैं वही करने के लिए बल्कि जो तुम्हे सुकून देती है और जिसे तुम करना चाहते हो जिसे तुम बस कुछ दिनो के लिए कुछ महीनो के लिए नहीं ना ही कुछ सालो के लिए चाहते हो बल्कि उम्र भर के लिए उस सफलता को चाहते हो तो तुम्हे बहुत धक्के खाने पड़ेगे कभी तुम कुछ देखकर भ्रमित होकर करना चाहोगे कभी तुम कुछ वो देखकर भ्रमित होकर करना चाहोगे लोगों को देखकर उनकी सफलता को देखकर लेकिन असफल हो जाओगे लेकिन जब तुम सिर्फ और सिर्फ अपने दिल की पुकार सुनोगे और सिर्फ वही करोगे तो तुम्हे करने में थोड़ी देर लगे मुश्किलो का सामना करना पड़े पराजय भी मिले मगर तुम डटे रहना पीछे मत हटाना क्योंकि भगवान अगर दस बार तुम्हे असफलता देगा तो एक बार जरूर सफलता देगा और ये तुम्हारी सफलता उन दसो असफलता पर बहुत भारी पड़ेगी इसलिए कुछ हासिल करना है तो बस दिल की आवाज के साथ जाना क्योंकि दिमाग तुम्हे हमेशा भ्रमित करता रहेगा सफलता आज तक जितने लोगो ने हासिल की है या उन्होंने इतिहास बनाया है उन्होंने सिर्फ और सिर्फ दिल की ही सुनी इसलिए आज वो सफल है जिस दिन तुमने लोगो को ना देखकर खुद को देखकर कुछ करने का निर्णय ले लिया सफलता को उसी दिन से तुम्हारे पीछे हल्के हल्के कदमों से चलकर आना ही पड़ेगा उसे मजबूर होकर तुम्हारे पास आना ही होगा काम को जब लोग भारी समझने लगते हैं तो आसान काम भी भारी लगने लगता है और जब काम को आसान समझने लगते हैं तो भारी काम भी आसान बन जाता है यही है सफलता का नियम

तुमसे ही होगा सिर्फ और सिर्फ तुमसे ही होगा

बहादुरी का पहना है मैने ताज

किया मैने आगाज

अब दुनिया देखेगी ऊंचा उड़ेगा ये बाज

हजार बड़े बड़े जहाज अक्सर समंदर में डूब जाते हैं और कोई बस छोटी सी नाव में बैठकर समंदर को पार कर जाता है जिन्हें चप्पू चलाने के लिए खुद के हाथो पर भरोसा होता है वही तूफान से भरी ऊंची उठती लहरों में भी अपनी छोटी सी नांव के सहारे समंदर पार कर जाते हैं अगर आपकी निर्भरता किसी और के ऊपर है तो आप शायद डूब सकते हैं बीच मजधार में लेकिन अगर आपकी निर्भरता स्वंय पर है अपने आपके मजबूत इरादों पर तो आप ऐसे ऐसे हर समंदर को एक बार की ही कोशिश में पार कर जाएंगे क्योंकि ये मजबूत इरादों का खेल है इसमें नाव लेकर समंदर में तभी आए जब आपको अपने हाथों की शक्ति पर खुद पर यकीन हो तभी आप समंदर को भी चीरते हुआ रास्ता बनाते हुए आगे बढ़ते जाएंगे लेकिन इरादों में दम नही है तो नाव भी बर्बाद होगी आप भी जान से जाएंगे मजबूत इरादों का खेल मजबूर होकर नहीं खेला जाता बल्कि मजबूत होकर जो ख्वाहिश है उसे पूरा करो उसे किसी के लिए घुटने टेकने मत दो चाहे सामने वाला कोई भी हो सपने तभी देखो जब दम हो उसे पूरा करने का अन्यथा सपने देखना बंद करो और अपनी बेबसी की जिंदगी जीने के लिए मजबूर रहो दूसरो को खुश करने के चक्कर में सपना अगर प्रेम पाना है तो समझौता किसी के सामने कभी भी नहीं होना चाहिए कभी नहीं क्योंकि प्रेम का रिश्ता सारे रिश्तो से बड़ा है इसे भगवान श्रीकृष्ण ने भी पूरा किया तो हम तो आम इंसान है हम क्यो नही कर सकते जो आपके जीवन के खुशी का स्त्रोत है उसे कभी भी किसी के लिए किसी भी कीमत पर त्यागा नहीं जा सकता है क्योंकि सपने किसी के जीवन में कितना मायने रखते है सपने किसी के लिए जीवन जीने से भी बड़ा होता है इसे कभी भी नहीं त्यागा जा सकता है किसी के लिए क्योंकि दिल से देखे सपनो में ईश्वर ही निवास करते हैं और ईश्वर को किसी को खुश करने के लिए नाराज नहीं किया जा सकता है

निर्भरता स्वंय पर है अपने आपके मजबूत इरादों पर तो आप ऐसे ऐसे हर समंदर को एक बार की ही कोशिश में पार कर जाएंगे

संसार में हर किसी को एक मंजिल की तलाश होती है

मगर हर किसी की तलाश एक जैसी हो ये भी मुमकिन नहीं

सबकी मंजिल एक हो ये भी मुमकिन नहीं है

रास्ते पर चलने पर एक मोड़ ऐसा आता है जहाँ

रास्ते मुड़ जाते हैं सबकी मंजिल उन्हें अलग अलग रास्तो पर ले जाती है

 कुछ की मंजिल पहले जाती है कुछ की मंजिल बाद में आती है

लेकिन हर कोई अपनी मंजिल पर जरुर पहुँचता है

जिसने भी यात्रा की शुरुआत की है

 उसे किसी किसी मंजिल पर जरुर पहुंचना होता है

 तभी तो उन्होंने यात्रा की शुरुआत की है

Leave a Reply

Your email address will not be published.