जीवन में आशा का क्या महत्व है

जीवन में निराशा क्यों आती है

अगर आप को ऊंचे स्तर की सफलता चाहिए तो उसकी राह में सबसे बड़ी असफलता निराशा का बोध जो आपकी चेतना मे इतनी गहरी हो जाती है जिससे आपका माहौल, आपका रवैया सब प्रभावित होता है जब हम किसी महत्वपूर्ण लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए कार्य करते हैं लेकिन हमारे आस-पास की दमनकारी शक्तियां हम पर हावी होने लगती है वो हमे कही न कहीं ये एहसास दिलाते हैं की सपने देखना मूर्खता है यह बकवास है हमारे सफल होने की संभावना ना के बराबर है और हम अपना समय और मेहनत सब व्यर्थ मे ही बर्बाद कर रहे हैं और आपके सपने तभी पूरे होगे जब आपकी किस्मत बहुत अच्छी हो बस हमारा विश्वास कमजोर हो जाता है मन में निराशा का भाव आने लगता है क्योंकि आपके आस-पास के लोग आपका माहौल ही आपका दमन कर देता है सपने पूरे होने से पहले उन्हें बिखेर देता है इसलिए अगर कार्य के प्रति पूर्ण समर्पण हो तो निराशा हमे छू भी नहीं सकती

आशा के बिना मानव जीवन असंभव है

जीवन में आशा ही कभी समर्पण नहीं करने वाला भाव है यही भाव जीवन को आसान बनाती है जिनके अंदर कभी समर्पण नहीं करने का भाव है जीवन में वही आशावान व्यक्ति हैं जो अपने ऊपर कभी निराशा को हावी नहीं होने देता वो व्यक्ति अपने आस-पास के दमनकारी शक्तियों के आगे कभी समर्पण नहीं करता जो उन्हें सपने देखने से रोकते है क्योंकि उन्हें खुद से आस-पास के माहौल से जूझना आता है और यही भावना उसे बेहद मजबूत व्यक्तित्व का इंसान बना देता है जो आशाओं से भरा व्यक्ति होता है जो अपने सपने भी पूरा करता है और जीवन का आनंद भी लेता है लेकिन अगर जीवन मे आशा नहीं तो हम हर दमनकारी परिस्थितियों मे भावनाओं में आकर टूट जाएगें और शायद हम हार जाएगें

यह बिल्कुल समर्पण करना जैसा ही है की हमारी अपनी कोई खुशी और सपनो का कोई महत्व नहीं बस हम दूसरे के प्रभाव मे आकर वो जीवन जीए जिसे शायद हम कभी जीना नहीं चाहते हैं

सफलता के लिए आशावादी होना आवश्यक है

सफलता एक विचार हैं जो आपको आशाओं से भर देती है अगर आप के भीतर थोड़ी सी भी कही आशा बची है तो आप कभी असफल नहीं हो सकते क्योंकि जो लोग आपसे अक्सर ये कहा करते है की यह कार्य करना असंभव है असल में ये वो लोग वो है जो कभी उस कार्य को करने की हिम्मत ही नहीं जुटा पाऐ जीवन मे क्योंकि ऐसे लोग ही वो होते है दूसरो को कभी वो कार्य करता नहीं देख सकते जिन्होंने उन्हें जीवन भर की निराशा और बेचैनी दी

क्योंकि ऐसे लोग को जीवन मे सफल होने का कोई मौका नहीं दिखता उनकी मानसिकता पूरी तरह निराशा से भरी होती है लेकिन जो आशाओं से भरे व्यक्ति होते है कभी निराशा नहीं होते क्योंकि वो हर समय प्रयास करते रहते है उनके प्रयास को देखकर लोग उनकी हंसी भी उड़ाते रहते है लेकिन उनका विश्वास ही तो उन्हें सफल बना देता है विश्वास ही तो सफलता का आधार है जो मनुष्य को आशावादी बना देती है

निराशा से आशा की ओर पर निबंध

जीवन मे बहुत बार ऐसे मौके आते है जब आपकी मेहनत और आपकी प्रतिभा का मजाक उड़ाया जाता है हर बार ताकि आप को ये यकीन ना चाह कर के भी करना पड़े की प्रतिभाशाली होने में कोई समझदारी नही है क्योंकि ऐसे लोग आपके आस -पास हर ओर है इसलिए हमे ऐसे नकारात्मक सोच वाले हर मनुष्य को अपने जीवन से दूर रखना चाहिए क्योकि उनका मकसद आपको नीचा और शर्मिंदा करने का नहीं होता बल्कि वो तो कहीं न कहीं चीख -चीख कर अपनी असफलता का विलाप कर रहा है इसके विपरीत जो जितना सफल होता है वो उतना विनम्र होता है और दूसरो की मदद के लिए हमेशा तैयार होता है उनका मकसद होता है आप जो कर रहे है उस कार्य का लाभ आपको तब तक मिले जब तक आप मे जीवन की अंतिम सांस बची हो

आशा पर निबंध

जब जीवन में लोग आपको छोटा दिखाने की कोशिश करे तो आप खुद को बड़ा बना लें अपनी सोच का विस्तृत करके दुनिया मे ऐसे बहुत से लोग होगें आपके आस-पास जो चाहते होगे की आप असफल हो जाए, आपके जीवन में दुर्भाग्य दस्तक दे, आपको तकलीफ पहुंचे लेकिन अगर आप उनसे नहीं उलझते तो आप उनका आकार आपके सामने छोटा पड़ जाता है जब कोई आपकी बुराई करे तो आप इसे अपनी सफलता के रूप में देखे क्योंकि जो आपकी पीठ पीछे बुराई करते है वो दुनिया के सबसे कमजोर इंसान मे से एक होते हैं अगर आप खुद को ताकतवर महसूस करते है तो आप ताकतवर है और अगर खुद को कमजोर महसूस करते हैं तो आप कमजोर है अगर आप खुद को हारा हुआ समझते है तो आप हारे हुए है और अगर खुद को जीता हुआ समझते है तो आप कभी नहीं हारेगें यही तो आशाओं की सबसे बड़ी ताकत है जो आपको काबिल बनाती है हर पल बेहतर से बेहतर

आशा ही जीवन है विषय पर अपने विचार 25 से 30 शब्दों में व्यक्त

संसार का हर एक व्यक्ति दो में से किसी एक कारण से प्रेरित होता है लाभ प्राप्त करने के लिए या जीवन के कष्टों से बचने के लिए इस कारण से जीवन मे आशाओं से ज्यादा निराशा लोगों को प्रभावित करती है क्योंकि जब तक आप विश्वास खुद पर नहीं कायम कर ले तब तक खुद को निराशाओं के हाथो में मत बेचे जीवन मे आपकी जो स्थिति होती है यह आप को समझना होगा की यह आपकी संभावित भावनाओं से ही प्रेरित है जब आप किसी कार्य को पूर्ण समर्पण से करते है तो जो आपको देखकर चिंतित हो जाएगें उससे भी कही बढ़कर नाराज हो जाएगें लेकिन यह गुस्सा उनका आप पर नहीं है बल्कि वो खुद से ही नाराज है और ये बात ये दर्शाता है की आप ने जीवन मे जो आशाओं का दामन थाम कर जो कदम बढ़ाया है वो बिल्कुल सही है क्योंकि ये लोग आपके आशाओं के ही तो मजबूत धागे से विचलित हो रहे है

आशा का अर्थ ? आशा से जीवन कैसे सफल होता है

आशा तो एक नजरिया है जो नहीं है उसके होने का ,असंभव से संभव तक की यात्रा ही तो आशा है आशा सदैव सुधार की गुंजाइश से प्रेरित होता है आशा आपको जीवन में ज्यादा नियोजित और प्रेरित बनाता है आशा जीवन मे अनुशासित बनाती है ये बताती है की हम जीवन मे सीख रहे है और अपने जीवन की विषम परिस्थितियों मे निरंतर सुधार करते जा रहे है आशावान व्यक्ति कभी नीरस नहीं होता है और किसी भी पूर्वानुमान को किसी भी कार्य मे संभावित रूप से निर्धारित नहीं करे

क्या मनुष्य को आशावादी होना चाहिए कारण सहित लिखिए

जीवन में आशा है तभी जीवन खुबसूरत है क्योंकि एक आशावान व्यक्ति ही जीवन में हो रही परेशानियों से लगातार लड़ता रहता है क्योंकि उसे खुद से आश होती है की वो बहुत जल्दी इन परेशानियों से बाहर निकल जाएगा
यही आशा व्यक्ति को मजबूत इरादों के साथ ही मानसिक तनाव से भी उभरने में काफी मदद करती है
जब आप के अंदर आशा है की आप सफल अवश्य होंगे तभी तो आप जीवन में कुछ नया करेंगे अपने जीवन को सामान्य स्थिति से बेहतर स्थिति में ले जाने के लिए बिना भयभीत हुए बिना ये विचार किए की कहीं आप असफल होंगे तो क्या होगा आप निरंतरता से सकारात्मकता रूप से प्रयास करेंगे और आप सफल भी अवश्य हो जाएंगे
कहते हैं ना की डूबते को तिनके का सहारा ये मुहावरा कहीं न कहीं आत्मविश्वास जागता है की आप हिम्मत करें खुद के प्रयत्न पर ध्यान केंद्रित करें खुद पर विश्वास रखे और आशावान बने आप की सोच ही आप को मुश्किलों से बाहर निकालेंगी

जीवन में दु:ख आशा निराशा के प्रति हमारा क्या दृष्टिकोण होना चाहिए

जीवन में सुख दुःख आशा निराशा के प्रति हमारा दृष्टिकोण सकारात्मक होना चाहिए
जीवन में सुख दुःख आशा निराशा दिन और रात के समान है जो हर वक्त आकर हमारी परिक्षा लेती हैं की हमारा व्यक्तित्व मजबूत है अथवा कमजोर है
हम विषम परिस्थितियों के लिए तैयार हैं या नहीं क्या हम अपने प्रयत्नों से सफलता प्राप्त करने के हकदार हैं या हम कदम पीछे खींचने में विश्वास रखते हैं
जो कोयले के खान में बिना इस डर के काम करते हैं की उनके कपड़ों में कोयले का काला रंग रंग जाएगा अक्सर उन्हें ही हीरा मिलता है ठीक उसी प्रकार जीवन में हम जब किसी कार्य के प्रति पूर्णतः समर्पित होते हैं बिना ये सोचे की हम असफल हुए तो क्या होगा वैसे ही लोग सफलता प्राप्त करते हैं तथा अपना एक अलग ही मुकाम हासिल करते हैं

आशा ही जीवन का मुख्य आधार है

जीवन जीने के लिए संधर्ष करना पड़ता है हर रोज मेहनत करनी पड़ती है हर रोज कार्य करना पड़ता है हर रोज भाग-दौड़ करनी पड़ती है तब कहीं जाकर मनुष्य दो वक्त की रोटी का जुगाड़ कर पाता है
कोई भी मनुष्य इतनी मेहनत कैसे कर लेता है क्योंकि उसे विश्वास होता है की वो शाम को जब घर आएगा तो पैसे लेकर आएगा ताकि उसके घर का चूल्हा जल सके उसका पूरा परिवार पेट भर भोजन कर सके
ये इसलिए होता है की वो मनुष्य आशावान होता है उसे पता है की वो हर रोज यह कार्य करता रहेगा उसके भाव मे इतनी ताकत इसलिए आती है क्योंकि वो मनुष्य आशावान हैं 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *