Best love quotes in Hindi

तुम हो जीवन में तभी तो प्रेम है मेरे संसार में

मेरे नजर में प्रेम की परिभाषा

सिर्फ तुम हो और कोई भी

परिभाषा ना मैने पढ़ी है

आज तक और ना ही

सीखी है आज तक

तुम्हे पाने के बाद मुझे इस जीवन में कुछ भी नहीं चाहिए

मेरे लिए तुम्हे पाने से बड़ी

कोई उपलब्धि हो ही नहीं सकती और

तुम्हे खोने से सबसे बड़ा नुकसान

मेरे लिए और कुछ हो ही नहीं सकता

इस जीवन में

प्रेम में एक-दूसरे की भावनाओं को बिना कहे समझना ही तो प्रेम है

मै वो प्रेम कभी ना करूँ

जहाँ मुझे समझौता करना पड़े

तुम्हारी खुशी ही मेरी सबसे बड़ी

खुशी है और तुम्हारे सपने के लिए

जीना मेरे लिए प्रेम में सबसे बड़े

उत्सव से कम नहीं है

प्रेम दो धड़कनो का एक हो जाना ही तो होता है

सच्चा प्रेम वो होता है

जहाँ दो लोग कभी एक दूसरे के

बिना रह नहीं सकते और

अगर एक दूसरे के बिना रह लेते हैं

तो वो प्रेम ही नहीं था

जिनके भीतर ईश्वर होते हैं वही प्रेम में महल छोड़कर भी कुटिया तक आ जाते हैं

वो छोटा सा मकान हमारे लिए

किसी महल से कम नहीं

जहाँ हम तुम साथ में रहे

बड़ा घर होने से कुछ नहीं होता

दिल बड़ा होना चाहिए

जिनका दिल बड़ा होता है

उनके लिए प्रेम में

जीना ही सब कुछ होता है

प्रेम में एक दूजे का चेहरा ही पूरी दुनिया बन जाती है

मेरी आंखे जब खुले

जब मैं गहरी नींद से जागूँ तब

तुम्हे देखूँ जब मै गहरी नींद में सोऊं

तब सोने से पहले तुम्हे देखूँ

मै जब गहरी नींद में रहूँ तब

सपनो में भी तुम्हे देखूँ मै

तुम्हे जीवन भर हर क्षण

सिर्फ और सिर्फ तुम्हे अपने पास

देखूँ अपने साथ देखूँ जहाँ

हम कभी अलग ना हो बल्कि

एक हो सदा सदा के लिए

प्रेम केवल दिल की भाषा समझता है

अगर प्रेम का कोई रूप रंग

भाषा होता तो शायद वो कभी भी

प्रेम ही नहीं होता प्रेम में तो

वो भाषा बोली जाती है

जो सिर्फ उसी को आती है

जिसके लिए ये भाषा बोली जाती है

जो भाषा दुनिया में कही नही

बोली जाती है जिसमें दो लोग नहीं

बल्कि दो धड़कने बात करते हैं

एक धड़कन की बात पर

दूसरा धड़कन धड़कता है

वही तो भाषा है प्रेम की

वही तो भाषा हमारी है

प्रेम की रौशनी दिनो दिन बढ़ती है कम नहीं होती है

प्रेम में कभी सूर्यास्त नहीं होता है

प्रेम का सूर्य तब तक नहीं अस्त होता

जब तक प्रेम का आधार केवल प्रेम होता है

फिर उस सुर्य की किरणों की एक झलक भी

जीवन में जो प्रकाश फैलाता है

उस प्रकाश का तेज

दिनों दिन बढ़ता ही जाता है

जहाँ प्रेम सच्चा होता है वहाँ हमेशा के लिए एक दूजे का साथ होता है

वो प्रेम ही क्या जहाँ

अपनी पहचान छुपानी पड़े

अंधेरो में शाम बितानी पड़े

प्रेम के सागर से नाव भगानी पड़े

Leave a Reply

Your email address will not be published.