गुरु नानक जयंती 2022 : जीवन में जब कोई राह नजर नहीं आए तो गुरूनानक देव के विचार सही राह दिखाएंगे

गुरु नानक जयंती 2022 : जीवन में जब कोई राह नजर नहीं आए तो गुरूनानक देव के विचार सही राह दिखाएंगे
जीवन में जब कोई राह नजर नहीं आए तो अपनी दोनों आंखों को बंद करके गुरूनानक देव का हाथ थाम कर आगे बढ़ना चाहिए तभी अपने जीवन में सही रास्ता हमे नजर आएगा
” अंधेरे में जब ना दिखे कोई पास तभी नानक जी बढ़ाते हैं अपना हाथ “
कार्तिक मास की पूर्णिया तिथि को गुरूनानक जयंती मनाई जाती है गुरु नानक देव ने ही सिख धर्म की नीवं रखी थी उन्होंने समाज को एक ऐसा उपहार दिया था जो आज भी मानवता के लिए सदैव अतुलनीय अस्मरणीय भेंट है जिसका मूल्य कोई नहीं चुका सकता है गुरूनानक जयंती सिर्फ सिख धर्म के लोगों के लिए पुज्यनीय ही नहीं बल्कि पूरे मानव जाति की जिन्हें नेकी अच्छाई में विश्वास है जिन लोगों को यकीन है हम सब एक है जब तक मानवता जीवित है तब तक गुरूनानक देव सबको के दिल में हमेशा रहेगे
गुरूनानक देव के बताए मार्ग पर आज भी जो लोग कदम बढ़ाते हैं वो जीवन में भले ही कितनी मुसीबतों में धिरे रहते हैं लेकिन अंत में जीत गुरूनानक देव के बताए मार्ग की होती है
गुरूनानक देव सिख धर्म के पहले धर्म गुरु हैं

गुरूनानक देव की जीवनी :-

guru nanak jayanti 2022



गुरूनानक देव का जन्म रावी नदी के तट स्थित तलवण्डी गाँव में हुआ था तलवण्डी आज के पाकिस्तान के पंजाब का एक नगर है उनके पिता का नाम मेहता कालू चंद खत्री एवं माता जी का नाम तृप्त देवी था आगे चलकर तलवण्डी नगर का नाम नानक जी के नाम पर ननकाना पड़ गया
गुरूनानक देव का विवाह सुलक्खनी जी से अल्प आयु में हुआ था उस वक्त उनकी आयु सोलह वर्ष की थी
गुरूनानक देव बचपन से ही बहुत बुद्धिमान थे ज्ञानी मगर उनका मन अध्ययन में नहीं लगता था सांसारिकता लोभ माया के अभिभूत व्यवस्था को देखकर अक्सर गुरूनानक देव का मन दुखी रहता था उनके मन में इतने प्रश्न उठते थे जिसका जवाब किसी के भी पास नहीं थे उन्हें शायद कुछ तलाश थी उनके साथ अक्सर बहुत सी ऐसी अविश्वसनीय घटनाएं घटती थी जो सामान्य मनुष्य की समझ से परे था
उनके साथ जो भी लोग थोड़ा सा समय व्यतीत करते थे उन्हें बहुत शांति अनुभव होती है वो लोग जीवन के दुखो को भी भूल जाते थे गुरूनानक देव जी के साथ पल दो पल बिता कर

गुरु के लिए दो शब्द


गुरूनानक देव के विचार :-

गुरूनानक देव की ख्याति बढ़ती ही जा रही थी उनके विचार ही ऐसे थे जो एक बार सुन ले नतमस्तक हौ जाता था गुरूनानक देव ने सदैव प्रेम पर जोर दिया है आपसी सौहार्द शांति पर गुरूनानक देव

गुरु नानक के दोहे


ईश्वर हमेशा से एक ही रहा है वो कही और नहीं हमारे भीतर है तुम्हारे भीतर है सबके भीतर है इस जगत के हर एक कण में उसकी झलक देखी जा सकती है प्रत्येक प्राणी मे उसकी मौजूदगी है

गुरु नानक कोट्स


जो व्यक्ति ईमानदार से अपना कार्य करते हैं उन्हें किसी का भय नहीं होता वही व्यक्ति जो ईमानदार है समाज को बदल सकता है अपनी मेहनत और नेकी से एक नयी दिशा समाज को देने में वो सक्षम है

Guru Nanak Jayanti in Hindi



कभी दूसरो का अहित नहीं करना चाहिए इससे हम मजबूत नहीं होते बल्कि कमजोर होते हैं


जो धन जरूरतमंदों के काम आए जो ईमानदारी से अर्जित की गई है वही धन जीवन में प्रगति और शांति लाती है समाज में भेदभावपूर्ण व्यवहार हमारे भीतर का ही विकार जो समय समय पर बाहर आता है अपने से कमजोर को सताना हमारी दुर्बलता है

गुरु नानक की वाणी



हमारे जीवन की सबसे बड़ी दौलत हमारी प्रसन्नता ही तो है जो हम एक दूसरे से बांटते हैं किसी के दुख को अपनी प्रसन्नता बांटकर कम करने है और हमेशा ईश्वर के प्रति कृतज्ञ बने रहने जो उसने हमे दिया है सुख दुःख जो भी दिया है उसने दिया है इसलिए दिल से उसके दिए हर भेट को स्वीकार करना चाहिए

गुरु नानक के उपदेश



भोजन वही है जो पेट की क्षृदा को शांत करती है ठीक उसी प्रकार विचार वही है जो आत्मा को शांतचित्त कर परमात्मा की ओर ले जाए

guru nanak jayanti wishes in hindi



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *